Tuesday, August 17, 2010

वाहन योग 



हम वाहन  योगों की अगले अंशों में यह देखते हैं क़ि बड़े वाहनों का योग कब बनता है........
१ जब चन्द्र चतुर्थ -भाव के स्वामी के साथ या लग्न के स्वामी के 
साथ होकर लग्न में  हो|
२. चतुर्थ भाव  का स्वामी शुक्र के साथ लग्न में हो |
३.शुक्र और चन्द्र बलवान होकर केंद्र या त्रिकोण में हों|
४.यदि बलवान गुरु और चन्द्र का शुभ सम्बन्ध हो|
५.शुक्र,चन्द्र,गुरु और लग्नेश एक ही जगह हों |
६.चतुर्थ का स्वामी और गुरु एक साथ हों|
७.चतुर्थ भाव और दशम भाव के स्वामियों का सम्बन्ध हो|
इन सभी योगों में मानव बड़े वाहनों को प्राप्त करता है 
क्रमशः ...........................

2 comments:

dheeraj said...

babaji jaankaaree ekdam sahi lagi. Jyotish to vakai kamaal ki cheej he. Grah home ke yog par bhi jaankari de to achcha hoga . dhanyavaad, pranaam.

amitabh said...

Hello Sir, I read your blog very interesting idea in that there was relative Ashh I wish just like you are writing |